What Size Inverter Will Run a Home
Reading Time: 5 minutes

Read in English

किस साइज़ का इन्वर्टर घर की ज़रूरतों को आसानी से पूरा कर सकता है

वर्तमान में हमारे दैनिक जीवन के लिए एक विश्वसनीय ऊर्जा स्रोत यानी पॉवर सोर्स का होना बहुत ही आवश्यक है। जब बिजली चली जाती है, तो उस समय पॉवर बैकअप की आवश्यकता पड़ती है और इस काम में इन्वर्टर हमारी मदद करता है। ये मुख्य रूप से एकत्र या निर्मित किए गये गए DC पॉवर को AC पॉवर में बदलने का काम करता है। हर घर की बिजली संबंधी ज़रूरते अलग-अलग होती हैं, ऐसे में पर्याप्त बिजली के लिए आपको किस साइज़ का इन्वर्टर इस्तेमाल करना चाहिए, यह सवाल काफ़ी महत्वपूर्ण हो जाता है। इस ब्लॉग में हम जानेंगे कि इन्वर्टर के साइज़ से क्या मतलब है, निरंतर बिजली क्या होती है और ये चीजें इन्वर्टर से निकलने वाली बिजली को कैसे प्रभावित करती हैं।

इन्वर्टर से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बातें

इन्वर्टर के साइज़ से क्या मतलब है:

इन्वर्टर के साइज़ को आमतौर पर इन्वर्टर की क्षमता के रूप में भी जाना जाता है। यह इन्वर्टर की बिजली उत्पादन करने की क्षमता को मापता है, जिसे वॉट (W) या किलोवॉट (kW) में व्यक्त किया जाता है। यह इन्वर्टर के उस अधिकतम पॉवर के बारे में बताता है, जो इन्वर्टर किसी भी समय आपूर्ति कर सकता है। इन्वर्टर का साइज़ यह तय करने में महत्वपूर्ण कारक है कि आपके घर की ऊर्जा संबंधी ज़रूरतें कितनी है और उसे पूरा करने के लिए कितनी ऊर्जा की आवश्यकता होगी।

निरंतर पॉवर रेटिंग:

किसी भी इन्वर्टर के साइज़ का सबसे महत्वपूर्ण पहलू उसकी निरंतर पॉवर रेटिंग होती है, जिसे निरंतर रेटिंग के रूप में भी जाना जाता है। इस रेटिंग से यह पता चलता है कि इन्वर्टर बिना गर्म हुए या बिना ख़राब हुए कितने समय तक लगातार अधिकतम पॉवर दे सकता है। घरेलू उपयोग के लिए इन्वर्टर का चुनाव करते समय निरंतर बिजली महत्वपूर्ण होती है। इससे इस बात की चिंता नहीं करनी पड़ती है कि इन्वर्टर घरेलू उपकरणों और इलेक्ट्रॉनिक्स की निरंतर बिजली संबंधी ज़रूरतों को पूरा कर सकता है या नहीं।

अधिकतम पॉवर (सर्ज पॉवर):

निरंतर बिजली के अलावा, इन्वर्टर की अधिकतम पॉवर रेटिंग भी होती है, जिसे आमतौर पर सर्ज पॉवर या पीक पॉवर के रूप में जाना जाता है। यह रेटिंग इन्वर्टर द्वारा थोड़े समय के लिये अपनी निरंतर रेटिंग से अधिक बिजली आपूर्ति करने की क्षमता के बारे में बताता है। उदाहरण के लिए, रेफ्रिजरेटर, एयर कंडीशनर या वॉटर पंप जैसे कुछ उपकरणों को शुरू करने के लिये सामान्य की तुलना में ज़्यादा पॉवर की आवश्यकता होती है। इस समय सर्ज पॉवर की आवश्यकता होती है।

इस तरह निर्धारित करें, घर के लिये किस साइज़ का इन्वर्टर लेना चाहिए:

अब जब हमें इन्वर्टर के साइज़ के बारे में सामान्य बातें पता है, तो आइए अब यह जानते हैं कि किस तरह से आप अपने घर की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए उपयुक्त साइज़ के इन्वर्टर का चुनाव कर सकते हैं।

अपने घर की कुल बिजली संबंधी आवश्यकताओं की गणना करें:

आपके घर के लिये किस साइज़ का इन्वर्टर सही होगा, इसके बारे में जानने के लिए सबसे पहले घर की कुल बिजली संबंधी आवश्यकताओं की गणना करें। आप घर में मौजूद सभी तरह के इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और अन्य दूसरे डिवाइस की एक लिस्ट बनाएं, जिन्हें आप बिजली कटौती के बाद इन्वर्टर से बिजली देना चाहते हैं। लिस्ट बनाते समय लाइट बल्ब, रेफ्रिजरेटर, AC, हीटिंग सिस्टम, TV, कंप्यूटर जैसे उपकरणों के बारे में गौर करें।

हर उपकरण की पॉवर रेटिंग वॉट (W) या किलोवॉट (kW) में नोट करें। या जानकारी आमतौर पर उपकरण के ऊपर लगे हुए लेबल या प्लेट पर उपलब्ध होती है। अगर रेटिंग एंपियर या वोल्ट में दी गई है, तो आप निम्न सूत्र का उपयोग करके वॉट में बिजली की गणना कर सकते हैं:

पॉवर (W) = वोल्टेज (V) x करेंट (A)

स्टार्टअप या सर्ज पावर का अनुमान लगाएं:

कुछ उपकरण जैसे AC, रेफ्रिजरेटर और वॉटर पंप को शुरू करते समय सामान्य संचालन की तुलना में ज़्यादा बिजली की आवश्यकता होती है। इसका हिसाब लगाने के लिए, पहचान करें कि किन उपकरणों की स्टार्टअप या सर्ज पॉवर आवश्यकताएं ज़्यादा हैं। इस वैल्यू को अलग से नोट करें।

कुल निरंतर बिजली आवश्यकता की गणना करें:

यह जानने के लिए कि बिजली न होने पर आपके घर को कितनी बिजली की आवश्यकता है, बस अपनी लिस्ट में मौजूद सभी उपकरणों की बिजली संबंधी जरूरतों को जोड़ें। यह वही पॉवर है, जो आपको अपने घरेलू उपकरणों को लगातार चलाने के लिए चाहिये। ऐसे में जो इन्वर्टर इतना पॉवर उत्पन्न करता है, वह आपके लिये सही हो सकता है।

सर्ज पॉवर के बारे में सोचें:

इसके बाद, जिन उपकरणों को शुरू करते समय ज़्यादा पॉवर की आवश्यकता होती है, उनके बारे में सोचें। ज़्यादा सर्ज पॉवर वाले उपकरणों की पहचान करें और उनकी वैल्यू को कुल निरंतर बिजली आवश्यकता से जोड़ें। इससे यह सुनिश्चित होता है कि इन्वर्टर ओवरलोडिंग के बिना शुरुआत की ज़्यादा बिजली संबंधी आवश्यकता को संभाल सकता है।

पर्याप्त क्षमता वाला इन्वर्टर चुनें:

अब जब आप अपनी कुल बिजली आवश्यकताओं के बारे में जान चुके हैं, तो इन सभी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त क्षमता वाला इन्वर्टर चुनें। ऐसे निरंतर पॉवर रेटिंग वाले इन्वर्टर ख़रीदें, जो आपकी कुल निरंतर बिजली आवश्यकता के बराबर हों या उससे ज़्यादा हों। इसके अलावा, यह भी सुनिश्चित करें कि इन्वर्टर की सर्ज पॉवर रेटिंग आपके उपकरणों के ज़्यादा सर्ज पॉवर को आराम से मैनेज कर पाये।

सुरक्षा मार्जिन के बारे में सोचें:

अपने घर के लिये इन्वर्टर ख़रीदते समय, सुरक्षा मार्जिन के बारे में भी सोचना चाहिए। इससे आपको घर में अचानक से हुए बदलावों को मैनेज करने में मदद मिलती है। उदाहरण के लिए, मान लीजिए अचानक से आप कुछ और उपकरणों को इन्वर्टर से चलाना चाहते हैं, ऐसे में आपको ज़्यादा बिजली की आवश्यकता पड़ेगी। ऐसी स्थिति से बचने के लिए सुरक्षा मार्जिन के बारे में पहले ही सोच लेना चाहिए। आमतौर पर, 10-20% तक सुरक्षा मार्जिन के बारे में सोचना सही हो सकता है।

इस तरह चुनें इन्वर्टर का साइज़:

आइये एक उदाहरण के माध्यम से समझने का प्रयास करते हैं कि आपको अपने घर के लिये किस साइज़ का इन्वर्टर चुनना चाहिए। मान लीजिए आपके पास निन्म पॉवर रेटिंग वाले उपकरण हैं:

  • रेफ्रिजरेटर: 150W (निरंतर) / 800W (सर्ज)
  • लाइट बल्ब: 200W
  • हीटिंग सिस्टम: 3,000W (निरंतर) / 3,500W (सर्ज)
  • टेलीविजन: 100W
  • कंप्यूटर: 300W
  • माइक्रोवेव: 1,200W (निरंतर) / 1,800W (सर्ज)

स्टेप 1: कुल निरंतर पॉवर आवश्यकता की गणना करें

कुल निरंतर पॉवर = 150W (रेफ्रिजरेटर) + 200W (लाइट बल्ब) + 3,000W (हीटिंग सिस्टम) + 100W (टेलीविजन) + 300W (कंप्यूटर) + 1,200W (माइक्रोवेव) = 4,950W (4.95kW)

स्टेप 2: स्टार्टअप या सर्ज पॉवर का अनुमान लगाएं

सर्ज पावर आवश्यकताओं वाले उपकरण, रेफ्रिजरेटर (800W), हीटिंग सिस्टम (3,500W), और माइक्रोवेव (1,800W) हैं।

स्टेप 3: कुल सर्ज पॉवर आवश्यकता की गणना करें

कुल सर्ज पॉवर = 800W (रेफ्रिजरेटर) + 3,500W (हीटिंग सिस्टम) + 1,800W (माइक्रोवेव) = 6,100W (6.1kW )

स्टेप 4: पर्याप्त क्षमता वाला इन्वर्टर चुनें

आपको अपने घर में निरंतर बिजली की आवश्यकता को पूरा करने के लिए कम से कम 4.95kW की निरंतर रेटिंग वाले इन्वर्टर की आवश्यकता होगी। इसके अलावा, ज़्यादा सर्ज पॉवर की आवश्यकता को मैनेज करने के लिये इन्वर्टर की सर्ज पॉवर रेटिंग 6.1kW होनी चाहिए।

स्टेप 5: सुरक्षा मार्जिन के बारे में सोचें

सुरक्षा मार्जिन को ध्यान में रखते हुए आप थोड़ी अधिक क्षमता वाला इन्वर्टर चुन सकते हैं। उपर्युक्त उदाहरण के हिसाब से आपके लिये 5.5kW का इन्वर्टर सही होगा। यह स्टार्टअप के दौरान पर्याप्त बिजली की आपूर्ति कर पाएगा और भविष्य के पॉवर लोड को भी मैनेज कर पायेगा।

निष्कर्ष:

ब्लैकआउट हो या ऑफ-ग्रिड जैसी स्थिति हो, बिना किसी रुकावट के लगातार बिजली का उपयोग करने के लिए एक सही इन्वर्टर का चुनाव करना बहुत महत्वपूर्ण होता है। निरंतर पॉवर रेटिंग, बिजली की बढ़ती क्षमताओं के बारे में जानना, और बिजली संबंधी अपनी कुल आवश्यकताओं की गणना करना, सही इन्वर्टर चुनने में मदद करता है। अपने घर की बिजली संबंधी सभी ज़रूरतों की सही गणना करके और सुरक्षा मार्जिन को ध्यान में रखकर सही साइज़ का इन्वर्टर चुनकर, आप बिना किसी परेशानी के अपने घर की बिजली संबंधी ज़रूरतों को पूरा कर सकते हैं। इसके साथ ही सही साइज़ का इन्वर्टर दोबारा उपयोग की जाने वाली ऊर्जा जैसे कि सौर ऊर्जा का उपयोग करने के लिए भी बहुत आवश्यक होता है।

Check out more blogs

Installing Solar Panels in Andhra Pradesh
Installing Solar Panels in Andhra Pradesh Introduction...
What is a Hybrid Solar System?
What is a Hybrid Solar System? Did you ever have a...
Batteries in Commercial and Industrial Sectors in India
Batteries in Commercial and Industrial Sectors in India...
Debunking the Myth: Is Solar Really Green?
Debunking the Myth: Is Solar Really Green? Solar power...
Empowering Agriculture: Solar Water Pumps in India
Empowering Agriculture: Solar Water Pumps in India...

© Fenice Energy 2023

Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Full Name
Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Full Name
Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Full Name