fbpx
Fenice Energy logo
Crucial Factors Before Installing Rooftop Solar in Chennai
Reading Time: 4 minutes

Read in English

चेन्नई में रूफटॉप सोलर सिस्टम लगवाने से पहले जान लें ये महत्वपूर्ण बातें

वर्तमान में ज़्यादा से ज़्यादा लोग स्वच्छ और पर्यावरण-अनुकूल ऊर्जा का उपयोग करना चाहते हैं। यही वजह है कि भारत के चेन्नई शहर में सौर ऊर्जा का उपयोग धीरे-धीरे लोकप्रिय हो रहा है। इस ब्लॉग में हम जानेंगे कि शहर में सोलर सिस्टम लगवाने से पहले कौन-कौन से महत्वपूर्ण बातों के बारे में जानना आवश्यक है। इसके साथ ही हम 25 साल, सौर ऊर्जा, और सोलर पैनल जैसे शब्दों के बारे में भी जानेंगे, जिससे चेन्नई में रहने वाले लोगों और व्यवसायों के लिए सौर ऊर्जा को अपनाना आसान हो जाएगा। 

सौर ऊर्जा की शक्ति की खोज:

सौर ऊर्जा एक स्वच्छ और टिकाऊ ऊर्जा स्रोत है, जिसकी चेन्नई जैसी धूप वाली जगहों में बड़ी संभावनाएं हैं। सोलर पैनलों के काम करने का तरीका बहुत सीधा है – हम सूरज की रोशनी को सोखकर उसे बिजली में बदलने के लिए सोलर पैनलों का उपयोग करते हैं। वर्तमान में सौर ऊर्जा की मूल बातों के बारे में जानना आवश्यक है, क्योंकि हम एक बेहतर और पर्यावरण अनुकूल भविष्य बनाने के लिए प्रयास कर रहे हैं।

लंबे समय का निवेश है सोलर पैनल लगाना:

सोलर पैनल लगवाने का मुख्य मक़सद केवल बिजली बचाना नहीं है, यह एक लंबे समय के निवेश की तरह होता है। ज़्यादातर सोलर पैनलों का जीवनकाल लगभग 25 साल तक होता है, इस वजह से पैनलों की मज़बूती और क्षमता के बारे में सोचना ज़रूरी हो जाता है। बेहतर क्वालिटी की चीजों का चुनाव करके सोलर पैनलों को अच्छे से उपयोग करने के साथ ही उन्हें लंबे समय तक चलाया जा सकता है।

अपनी ज़रूरत के हिसाब से करें सही सोलर पैनल का चुनाव:

सही सोलर पैनल का चुनाव बहुत महत्वपूर्ण होता है। अगर सोलर पैनलों की बात करें तो ये मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं – मोनोक्रिस्टलाइन और पॉलीक्रिस्टलाइन। मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल अपनी बेहतरीन क्षमता के लिए जाने जाते हैं और देखने में भी अच्छे लगते हैं। सबसे बड़ी बात, ये चेन्नई के जलवायु के हिसाब से बिलकुल सही होते हैं। वहीं, पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल थोड़े सस्ते होने के साथ ही अच्छे भी होती हैं। दोनों के अंतरों के बारे में जानकर आप अपनी ज़रूरत के हिसाब से सही सोलर पैनल का चुनाव कर सकते हैं।

छत का सही उपयोग करने के लिए लगाएं रूफटॉप सोलर पैनल:

छतों पर सोलर पैनल लगवाते समय, ज़्यादा धूप पाने के लिए बिलकुल सही स्थान चुनना महत्वपूर्ण होता है। अपनी छत की पूरी जगह को ध्यान से देखें, जांचें कि इसका मुख किस दिशा में है (उत्तरी गोलार्ध में दक्षिण की दिशा सबसे सही होती है), और सुनिश्चित करें कि पैनलों को पूरे दिन सूरज की अच्छी रोशनी मिलती रहे। इस तरह, आप सोलर पैनल लगवाकर सूर्य से अधिकतम ऊर्जा उत्पन्न कर सकते हैं।

कितने सोलर पैनलों की आवश्यकता है, जांचें:

यह जानने के लिए कि आपको कितने सोलर पैनलों की आवश्यकता है, अपने बिजली बिल को देखें और अनुमान लगाएं कि आप औसतन कितनी ऊर्जा का उपयोग करते हैं। फिर उन सोलर पैनलों की क्षमता के बारे में सोचें, जिनका उपयोग आप करना चाहते हैं। इन दोनों के बारे में जानकार आप अपनी ऊर्जा संबंधी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए आवश्यक पैनलों की संख्या की गणना कर सकते हैं और शायद अतिरिक्त बिजली का उत्पादन भी कर सकते हैं। 

सोलर पैनलों के लिए दक्षिण दिशा का महत्व:

चेन्नई जैसी जगहों पर ज़्यादा धूप प्राप्त करने के लिए आपके सोलर पैनलों का मुख दक्षिण दिशा की ओर होना महत्वपूर्ण है। जब पैनलों के मुख दक्षिण की ओर होते हैं, तो वे सूरज की रोशनी की अधिकतम मात्रा सोख लेते हैं, जिससे वे बेहतर तरीक़े से काम करते हैं और अधिक बिजली पैदा करते हैं। छत पर लगे सोलर पैनलों के झुकाव की जांच करें और उन्हें समायोजित करें, ताकि सोलर पैनल सही हों और अपनी पूरी क्षमता के साथ ऊर्जा का उत्पादन कर पाएं।

सोलर पैनलों की आत्मा है सोलर सेल्स:

सोलर पैनलों की बनावट के बारे में जानने के लिए सोलर सेल्स के बारे में जानना आवश्यक है। सोलर सेल्स, आमतौर पर सिलिकॉन से बने होते हैं और सूर्य के प्रकाश को सोखकर उसे बिजली में बदलने का काम करते हैं। मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल सिंगल-क्रिस्टल सेल्स से बने होते हैं, जिस वजह से इनकी क्षमता काफ़ी अच्छी होती है। जबकि, पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल कई क्रिस्टल से मिलकर बने होते हैं और लागत के मामले में सस्ते पड़ते हैं।

ऊर्जा खपत का विश्लेषण:

सौर ऊर्जा सिस्टम लगाते समय यह समझना महत्वपूर्ण है कि आप कितनी ऊर्जा का उपयोग करते हैं। यह देखने के लिए कि आप वर्तमान में कितनी बिजली का उपयोग करते हैं और क्या भविष्य में इसमें वृद्धि हो सकती है, अपने बिजली बिलों पर बारीकी से नज़र डालें। इससे आपको अपने सोलर सिस्टम के लिए सही आकार का पता लगाने में मदद मिलती है, जिससे यह सुनिश्चित हो जाता है कि यह आपकी ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है या नहीं।

सोलर सिस्टम के प्रकार:

अलग-अलग सोलर सिस्टम अलग-अलग आवश्याओं को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किए गये हैं। ग्रिड-टाईड सिस्टम स्थानीय इलेक्ट्रिसिटी ग्रिड से जोड़े जा सकते हैं, जिससे उपयोग से अधिक बिजली का उत्पादन होने पर आप बची हुई बिजली को वापस इलेक्ट्रिसिटी ग्रिड को बेच सकते हैं। वहीं, ऑफ-ग्रिड सिस्टम स्वतंत्र रूप से काम करते हैं, जिस वजह से ये सुदूरवर्ती क्षेत्रों के लिए बेहतरीन विकल्प होते हैं। सही सोलर सिस्टम का चयन इस बात पर निर्भर करता है कि आपको ऊर्जा की कितनी ज़रूरत है और आपके क्षेत्र में क्या उपलब्ध है।

सुनिश्चित करें कि आपका रूफटॉप सोलर सिस्टम सही से काम करे:

छत पर सोलर सिस्टम लगवाते समय सावधानीपूर्वक कदम उठाएं। स्थानीय नियमों का पालन करें और सोलर सिस्टम के लिए सही तरह से अनुमतियां प्राप्त करें। इसके साथ ही एक ऐसे विशेषज्ञ की मदद लें, जिसे सोलर सिस्टम लगाने का अच्छा अनुभव हो। सही तरह से लगाया गया सोलर सिस्टम बेहतर होने के साथ-साथ ज़्यादा ऊर्जा का उत्पादन करता है और लंबे समय तक चलता है।

निष्कर्ष:

चेन्नई जैसे शहर में सौर ऊर्जा का उपयोग करना केवल एक प्रचलित चलन नहीं है, बल्कि पर्यावरण को बेहतर बनाने की दिशा में एक सही कदम है। जब आप अपनी ऊर्जा संबंधी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए सोलर सिस्टम लगवाने का निर्णय करते हैं, तो उससे पहले इस बात का ध्यान रखें कि वे कितने समय तक चलते हैं और आपकी ज़रूरत के लिए कौन सा सोलर सिस्टम सही होगा। चेन्नई शहर का लक्ष्य केवल सौर ऊर्जा का उपयोग करके पैसे बचाना नहीं है, बल्कि स्वच्छ ऊर्जा विकल्प का चुनाव करके आने वाले कल को बेहतर बनाना भी है।

 

Check out more blogs

The Psychology of Solar: How Solar Panels Impact Perception
The Psychology of Solar: How Solar Panels Impact Perception...
The Importance of Inclination in Solar Panels
The Importance of Inclination in Solar Panels In the...
Calculating Daily Power Production for Each kW of Solar Panels
Calculating Daily Power Production for Each kW of Solar...
The Rise of Mono PERC: A Game-Changer in Solar Energy
The Rise of Mono PERC: A Game-Changer in Solar Energy...
Installing Solar Panels in Andhra Pradesh
Installing Solar Panels in Andhra Pradesh Introduction...
Clean Energy Logo

30/5, First Floor, 1st Cross Street, RA Puram, Chennai - 600028, Tamilnadu.

Social

© Fenice Energy 2023

Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Full Name
Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Full Name
Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Full Name